Draupadi Murmu: भारत की पहली आदिवासी महिला राष्ट्रपति हैं

आज की इस पोस्ट में हम द्रौपदी मुर्मू की जानकारी हिंदी में बताने वाले हैं अगर आप Draupadi Murmui से जुड़ी जानकारी चाहते हैं तो इस पोस्ट को पूरा पढ़ें

Draupadi Murmu: होंगी भारत की 15वीं राष्ट्रपति. वह स्वतंत्र भारत की दूसरी महिला राष्ट्रपति और पहली आदिवासी महिला होंगी.

Draupadi Murmu
Draupadi Murmu

सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश एनवी रमन्ना उन्हें पद और गोपनीयता की शपथ दिलाएंगे. वर्तमान राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद का कार्यकाल 24 जुलाई को समाप्त हो रहा है.

Draupadi Murmu Information

द्रौपदी मुर्मू का जन्म 20 जून 1958 को उड़ीसा के मयूरभंज जिले के बैदापोसी गांव में हुआ था. इनके पिता का नाम बिरंची नारायण टुडु है. वह संथाल परिवार से ताल्लुक रखती हैं, जो एक आदिवासी जातीय समूह है.

द्रौपदी मुर्मू भारतीय जनता पार्टी की वह सदस्य हैं. 2006 से 2009 तक वह एसटी मोर्चा की प्रदेश अध्यक्ष रहीं. वह 2004 से 2009 तक रायरंगपुर विधानसभा की सदस्य रहीं.

वह 6 मार्च 2000 से 6 अगस्त 2002 तक वाणिज्य और परिवहन के लिए स्वतंत्र प्रभार के साथ मत्स्य और पशु संसाधन विकास राज्य मंत्री थीं और उड़ीसा में भारतीय जनता पार्टी और बीजू जनता दल गठबंधन सरकार के दौरान 6 अगस्त 2002 से 16 मई 2004 तक थीं.

Draupadi Murmu Governor

बता दें कि द्रौपदी मुर्मू ने शिक्षक के तौर पर काम किया है. वह पहले सभासद और फिर विधायक बनीं. सर्वपल्ली राधाकृष्णन की तरह, द्रौपदी मुर्मू लंबे समय से शिक्षा के क्षेत्र से जुड़ी हुई हैं और लंबे समय तक विधायक और मंत्री रही हैं.

उन्होंने उड़ीसा सरकार के परिवहन और वाणिज्य विभागों को संभाला. और 2007 में एमएलए के लिए नीलकंठ पुरस्कार जीता ह.

Leave a Comment